“NO Bag Day”

Government has Announced a Budget In  एजुकेशन सेक्टर में बच्चों के लिए राहत भरी घोषणा की है। उन्होंने गवर्नमेंट स्कूलों में शनिवार को ‘नो बैग डे’रखने की बात कही। यानी इस DAY स्कूल में बच्चे बैग नहीं लाएंगे, बल्कि खेल-खेल में को-करिकुलम एक्टिविटीज से सीधे जुड़ने का मौका मिलेगा। इस पहल पर शहर के प्राइवेट और गवर्नमेंट स्कूलों के डायरेक्टर व प्रिंसिपल्स ने सहमति जताते हुए कहा कि ये काफी सराहनीय कदम है। इससे बच्चों को पढ़ाई के साथ-साथ दूसरी गतिविधियों से जुड़कर नया सीखने का मौका मिलेगा। यानी इससे उनका ओवर ऑल डेवलपमेंट होगा।

Private स्कूलों के डायरेक्टर्स ने कहा- यह पहल काफी अच्छी है। इसे वे अपने स्कूलों में एकेडमिक काउंसिल से डिस्कस करके लागू करेंगे। इस पहल से स्टूडेंट्स, पैरेंट्स और टीचर्स के बीच डायरेक्ट कनेक्टिविटी बढ़ेगी। स्कूली बच्चों ने भी सरकार के निर्णय को “राइट चॉइस” बताया है।

 शनिवार को ‘फन डे’ के दिन बच्चे नहीं लाते बैग 
KVS -4 की Principal Neelam Ne बताया कि हमारी ऑर्गेनाइजेशन से ग्रीन सिग्नल मिलने पर यकीनन हम स्कूल में ‘नो बैग डे’शुरू कर सकते हैं। केवी में पहले से शनिवार को ‘फन डे’होता है। बच्चे बैग लेकर नहीं आते हैं।
टीचर-पैरेंट्स के बीच बढ़ेगी कनेक्टिविटी 
कैम्ब्रिज कोर्ट वर्ल्ड स्कूल की Lata के मुताबिक स्कूलों के लिए ‘नो बैग डे’ की पहल सराहनीय है, क्योंकि इससे स्टूडेंट्स, पैरेंट्स और टीचर्स के बीच सीधी कनेक्टिविटी बढ़ेगी।
स्कूलों में हम नए सेशन से करेंगे प्रयोग 
आईआईएस डीन यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर Dr. Ashok गुप्ता का कहना है कि ‘नो बैग डे’की पहल का स्वागत करते हैं। सरकारी स्कूलों को इससे एक नई दिशा मिलेगी। बड़ी कक्षाओं के लिए नए सेशन से प्रयोग किया जा सकता है।
को-करिकुलम एक्टिविटीज से जुड़ेंगे बच्चे 
टैगोर ग्रुप की सीईओ डॉ. Ruchira सोलंकी ने बताया कि ‘नो बैग डे’ से स्टूडेंट्स को बाकी एक्टिविटीज में भाग लेने का मौका मिलेगा। उस एक दिन में आप लेक्चर, सेशन, टॉक शो, विजिट  एक्टिविटीज में बच्चों को शामिल कर सकते हैं।
पर्सनैलिटी डेवलपमेंट के लिए अच्छी पहल 
Jaishree Paidiwal स्कूल की डायरेक्टर ने बताया कि बजट में स्कूलों के लिए आए नियमों से बच्चों पर प्रेशर कम होगा। अगलेे सेशन से हम भी शनिवार को ‘नो बैग डे’ मनाएंगे। पर्सनैलिटी डेवलप करने की यह पहल अच्छी है।
स्टडी करके अगले सत्र में लागू करेंगे ‘नो बैग डे’ 
जेएनयू चांसलर डॉ. Sandeep के According, ‘नो बैग डे’ काफी सराहनीय कदम है। यकीनन इससे बच्चों को खेल-खेल में सीखने का मौका मिलेगा। एकेडमिक काउंसिल से डिस्कस करके ‘नो बैग डे’इनिशिएटिव को अगले सत्र से लागू करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

पैसे का प्रवाह- Short Story Flow of Money and no one actually own the ₹ in Hindi & Eng versionपैसे का प्रवाह- Short Story Flow of Money and no one actually own the ₹ in Hindi & Eng version

Hindi Version... आज ब्लॉग “धन के प्रवाह ” के बारे में है और यह समझने के लिए कि कोई भी पैसे का मालिक नहीं है। कहानी को बहुत ध्यान से पढ़ें| एक बार की बात